Buying New Home/Property?

घर के नक्शे में तीन चीजों का ध्यान जरूर रखें।

  • सबसे पहला प्रवेश द्वार है। महावास्तु के अनुसार, किसी भी भवन के 32 संभावित प्रवेश द्वार होते हैं और यह घर में रहने वाले लोगों पर पड़ने वाले अच्छे या बुरे प्रभावों से जुड़ा हुआ है। दक्षिण-पश्चिम दिशा में द्वार उधार, गरीबी और रिश्तों में समस्याएं पैदा करता है। यदि प्रवेश द्वार वास्तु के अनुकूल नहीं है तो आपको उस घर को खरीदने से बचना चाहिए।

  • इसके बाद घर के अंदर कमरे को देखें, कि उनकी दिशाएं क्या हैं? वे वास्तु अनुकूल हैं या नहीं? यह बेहद जरूरी है, क्योंकि विभिन्न दिशाओं के कमरे आपके मेहनत के परिणाम को प्रभावित करते हैं। आपने नया घर अपने जीवन की नई शुरुआत और जीवनसाथी को खुश करने के लिए खरीदा है लेकिन जब यही घर आप दोनों में दूरी उत्पन्न करने लगे तो इस घर का कोई महत्व नहीं रह जाएगा।

बेडरूम दक्षिण और दक्षिण-पश्चिम दिशा के बीच रहने से यह जोन खर्च और फालतू चीजों को बढ़ावा देता है। यहां बने बेडरूम में रहने से आपको महसूस होगा कि आपके जीने का कोई अर्थ ही नहीं है। आप अपने प्रयास, धन, स्वास्थ्य और बने हुए सारे स्रोतों को खोते चले जाएंगे।

पूर्व और दक्षिण-पूर्व के बीच वाले बेडरूम से परहेज करें। यदि आप इस कमरे में बैठते हैं तो कभी भी रिलैक्स नहीं महसूस कर सकेंगे। महावास्तु के अनुसार यह एंजायटी का क्षेत्र है और यही वजह है कि आप हमेशा अपने जीवनसाथी के साथ नोक-झोक करते रहेंगे।

  • घर में पंचतत्वों का संतुलन बेहद जरूरी है। इस ब्रह्मांड का निर्माण जल, वायु, अग्नि, पृथ्वी और आकाश से हुआ है। हम जिस घर में रहते हैं वहां भी इनका संतुलन उतना ही जरूरी है। आदर्श तौर पर दक्षिण, पश्चिम- दक्षिण- पश्चिम, पूर्व- उत्तर- पूर्व जोन्स वाले बेडरूम सही रहते हैं।

हालांकि कभी-कभी ऐसा भी होता है कि खुद से वास्तु करने पर कुछ समझ में नहीं आता। अगर ऐसा है तो आप किसी प्रोफेशनल वास्तु कंसल्टेंट की सलाह ले सकते हैं

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s