!! मंत्र जप के प्रकार !!

जप तीन प्रकार के बतलाए हैं – १ . मानस जप , २ . उपांशु जप और ३ . वाचिक जप ।
१ . मानस जपः — जिस जप में मंत्र की अक्षर पंक्ति के एक वर्ण से दूसरे वर्ण , एक पद से दूसरे पद तथा शब्द और अर्थ का मन द्वारा बार – बार मात्र चिंतन होता हैं , उसे ‘ मानस जप ‘ कहते हैं । यह साधना की उच्च कोटि का जप कहलाता है ।
२ . उपांशु जपः — जिस जप में केवल जिह्वा हिलती है या इतने हल्के स्वर से जप होता है , जिसे कोई सुन न सके , उसे ‘ उपांशु जप ‘ कहा जाता है । यह मध्यम प्रकार का जप माना जाता है ।
३ . वाचिक जपः — जप करने वाला ऊंचे – नीचे स्वर से , स्पष्ट तथा अस्पष्ट पद व अक्षरों के साथ बोलकर मंत्र का जप करे , तो उसे ‘ वाचिक ‘ जप कहते हैं । प्रायः दो प्रकार के जप और भी बताए गए हैं – सगर्भ जप और अगर्भ जप । सगर्भ जप प्राणायाम के साथ किया जाता है और जप के प्रारंभ में व अंत में प्राणायाम किया जाए , उसे अगर्भ जप कहते हैं । इसमें प्राणायाम और जप एक – दूसरे के पूरक होते हैं ।

मंत्र – विशारदों का कथन है कि वाचिक जप एक गुना फल देता है , उपांशु जप सौ गुना फल देता है और मानस जप हजार गुना फल देता है । सगर्भ जप मानस जप से भी श्रेष्ठ है । मुख्यतया साधकों को उपांशु या मानस जप का ही अधिक प्रयास करना चाहिए ।

सभी शिव भक्त जनोँ को सादर प्रणाम के साथ चरण वन्दना
बोलो प्रेम से
हर हर गंगे, हर हर महादेव, जय गंगा मैया, ॐ नमः शिवायै

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s